Yuva Josh Shayari - युवा जोश शायरी

Yuva Josh Shayari in Hindi

(1)
उंगली पकड़ के जिसकी खड़े हो गये हम,
मां बाप की दुआ से बड़े हो गये हम,
हम आंधियों से जूझ कर हंसते ही रहे,
फौलाद से भी ज्यादा कड़े हो गये हम…


(2)
जिन्दगी की राहों में अंधेरा बहुत है,
ये कभी मत कहना,
राहों को रौशन करना है अगर,
तो दिल में सदा उम्मीद की लौ जलाये रखना…


(3)
बुलंद हो हौसला तो मुठ्ठी में हर मुकाम है,
मुश्किलें और मुसीबतें तो जिंदगी में आम है,
जिंदा हो तो ताकत रखो बाजुओं में लहरों के खिलाफ तैरने की,
क्योंकि लहरों के साथ बहना तो लाशों का काम है…


(4)
मंजिल उन्हीं को मिलती है,
जिनके सपनों में जान है,
पंख से कुछ नहीं होता,
हौसलो से ही उड़ान है…


(5)
खुशबु बन कर गुलों से उड़ा करते हैं,
धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं,
ये कैंचियाँ खाक हमें उड़ने से रोकेगी,
हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं…

(6)
इस संसार में जो कुछ है,
सब अपना है,
हमारी जिन्दगी यही पर खत्म नहीं होती,
क्योंकि हमें आसमान को छूना हैं…


(7)
हार कर निराश मत होना,
उम्मीद और विश्वास को मत खोना,
जिंदगी में चुनौती सिर्फ वीरो को मिलती है,
बिना लक्ष्य प्राप्त किये चैन से मत सोना…


(8)
मंजिल पे जिन्हें जाना है,
तूफानों से डरा नहीं करते,
तूफानों से जो डरे,
मंजिल कभी पाया नहीं करते…


(9)
चमक सूरज की नहीं मेरे किरदार की है,
खबर ये आसमां के अखबार की है,
मै चलूं तो मेरे संग कारवां चले,
बात गुरूर की नहीं ऐतबार की है…


(10)
हौसलें बुलन्द कर के रास्तों पर चल दे,
तुझे तेरा मुकाम मिल जयेगा,
अकेला तू पहल कर देख,
तो काफिला खुद ब खुद बन जायेगा…