Toofan Shayari in Hindi - तूफान शायरी

Toofan Shayari
तूफान शायरी

(1)
सुख दुःख की धूप-छाँव से आगे निकल के देख,
इन ख्वाहिशों के गाँव से आगे निकल के देख,
तूफान क्या डुबायेगा तेरी कश्ती को,
आँधियों की हवाओं से आगे निकल के देख…


(2)
नही अब खौफ किसी का भी हमको
हमने शहरे-दिल मे ठिकाना बना रखा है,
अब आये तो आ जाये तूफान कोई
सजदे मे उसके सिर हमने झुका रखा है…


(3)
मेरे साथ जब मैं खुद खड़ा होता हूँ,
तब मैं क़यामत के हर तूफ़ान से बड़ा होता हूँ…


(4)
खाली शीशे भी निशान रखते हैं,
टूटे हुए दिल भी अरमान रखते हैं,
जो ख़ामोशी से गुज़र जाये,
वह दरिया भी दिल में तूफ़ान रखते हैं…


(5)
उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
न हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते हैं,
इसके साहिल पर घर बसाने की ज़िद न करो…

Tufan Shayari

(6)
उदास लम्हों की न कोई याद रखना,
तूफान में भी वजूद अपना संभाल रखना,
किसी की ज़िंदगी की ख़ुशी हो तुम,
बस यही सोच तुम अपना ख्याल रखना…


(7)
तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​,
​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​…


(8)
मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना,
पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ…


(9)
कस्तियाँ रह जाती हैं तूफान चले जाते हैं,
याद रह जाती है इंसान चले जाते हैं,
प्यार कम नहीं होता किसी के दूर जाने से,
बस दर्द होता है उनकी याद आने से…


(10)
आरजू नहीं के ग़म का तूफान टल जाये,
फ़िक्र तो ये है तेरा दिल न बदल जाये,
भुलाना हो अगर मुझको तो एक एहसान करना,
दर्द इतना देना कि मेरी जान निकल जाये…