Sasural Shayari in Hindi - ससुराल शायरी

Sasural Shayari in Hindi

(1)

ससुर के रूप में पिता मिले,
सास के रूप में माँ,
जेठ देवर के रूप में भाई मिले,
ननद और भाभी में सहेली मिले,
बस यही होती है हर बेटी के पिता की तमन्ना…


(2)
दुल्हन का दुःख जब ससुराल समझेगा,
तभी आने वाली पीढ़ी खूब तरक्की करेगा…


(3)
दुल्हन वही अच्छी जो पिया मन भाये,
ससुराल वही अच्छी जहाँ मायके की याद न आये…


(4)
अगर अच्छा ससुराल होगा,
तो बहू का चेहरा खुशहाल होगा…

Sasural Sad Shayari

(5)
कोई मायका तो कोई ससुराल कहलाए
कोई बताए हम बेटियों का घर कौन सा कहलाए…


(6)
हर बात का जवाब पता होता था उसे
मगर अब वो कैद हर इक सवाल में है,
किसी ने पूछा वो किस हाल में है
धीमें से आवाज आई वो ससुराल में है…


(7)
मैं नादानियों को छोड़
अब जिम्मेदार होने चली हूँ,
बचपन की दहलीज पार कर
मैं ससुराल चली हूँ…


(8)
कभी ससुराल तो कभी मायका कहलाये,
कोई जरा हमको भी बताये की हम बेटियां जाएँ तो कहाँ जाएँ…


(9)
जिस लड़की के भाग्य बड़े होते है,
उसके शौक ससुराल में पूरे होते है….


(10)
ससुराल वालों को विलन बनाया गया है,
इन दुनिया में खूब भ्रम फैलाया गया है….