Sad Barish Shayari in Hindi - दर्द भरी बारिश शायरी

बारिश जब आती है तो पुरानी यादों को ताजा कर देती है। इसी दर्द को बयां करती हुई कुछ सैड बारिश शायरी आपको इस पोस्ट में मिलेगी। अगर आप सिर्फ दर्द शायरी और बेवफा शायरी ढूंढ रहे हैं तो हमारी साइट पर जरूर पढ़ें।

दर्द भरी बारिश शायरी | Sad Barish Shayari in Hindi

(1)
तेरे बगैर इस मौसम में वो मजा कहाँ,
काँटों की तरह चुभती है बारिश की बूँदें…


(2)
वो इस तरह मुस्कुरा रहे थे,
जैसे कोई गम छुपा रहे थे,
बारिश में भीग के आये थे मिलने,
शायद वो आँसू छुपा रहे थे…


(3)
खूब हौसला बढ़ाया आँधियों ने धूल का,
मगर दो बूँद बारिश ने औकात बता दी…


(4)
सूखे हुए शजर को पानी मिला नहीं,
आज सब्ज़ हुआ आँगन तो बारिश होने लगी…


(5)
ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर…

Sad Barish Shayari 2 Line

(6)
हैरत से ताकता है सहरा बारिश के नज़राने को,
कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को…


(7)
मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशो में भीगने का…


(8)
वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,
मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा…


(9)
रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं…


(10)
एक तो ये रात, उफ़ ये बरसात,
इक तो साथ नही तेरा, उफ़ ये दर्द बेहिसाब
कितनी अजीब सी है बात,
मेरे ही बस में नही मेरे ये हालात…