Papa Ki Pari Shayari in Hindi - पापा की परी शायरी

Papa Ki Pari Shayari

Papa Ki Pari Shayari in Hindi

(1)
मेरी नन्ही परी तो अब बड़ी हो गई,
घुटनों पर चलते-चलते अब खड़ी हो गई…


(2)
आ तुझको ले चलूँ मैं ऐसे देश में,
जहाँ खुशियाँ मिलती है परियों के वेश में…


(3)
तुझको पास बुलाती है,
दिल के सारे गमों को भुलाती है,
ऐ मेरी प्यारी सी परी
जिंदगी तुझमे ही समाती है…


(4)
परी हूँ मैं,
सोने सी खरी हूँ मैं,
कई मुसीबतों से लड़ी हूँ मैं,
अब अपने पैरों पर खड़ी हूँ मैं…


(5)
प – पलकों में सजे हर ख्व़ाब पूरे हो,
अरमान तुम्हारे कोई न अधूरे हो.
री – रीढ़ बनो तुम परिवार व समाज की,
ऐसा वजूद और नूर हो जीवन की…

Funny Papa Ki Pari Shayari Status

(6)
आखिर पापा की परी ने रिप्लाई कर ही दिया कि :-
“भाई क्यों तंग कर रहे हो?
मैं भी लड़का ही हूँ !”
साला मेरा तो दुनिया से विश्वास ही उठ गया है…


(7)
मुझे छाँव में रखा,
खुद जलती रही धूप में,
एक परी देखा मैंने
अपनी माँ के रूप में…


(8)
फिजाओं में बसी है जैसे ख़ुशबू तेरी,
समेट रखा है मैंने ऐसे हर यादों को तेरी,
उड़ती हुई नजर आती हो जैसे कोई परी,
बस एक तमन्ना बन सके तू सरेआम मेरी….


(9)
तुझको पास बुलाती है,
दिल के सारे गमों को भुलाती है,
ऐ मेरी प्यारी सी परी
जिंदगी तुझमे ही समाती है….


(10)
इश्क़ के सुरूर में खो गये,
तेरे इश्क़ में इस कदर चूर हो गये,
कहते थे ख़्वाबों की परी हो तुम
आज उसी ख़्वाबों से दूर हो गये….