Mehndi Shayari in Hindi - मेहंदी शायरी

Mehndi Shayari in Hindi

(1)
मेहंदी का रंग तो कुछ दिनों में मिट जाता है
इश्क़ का रंग तो मौत के साथ ही जाता है…


(2)
मैं तेरे हाथों पर रच जाऊँगा मेहँदी की तरह,
तू मेरा नाम कभी हाथों पर सजा कर तो देख…


(3)
माना कि सब कुछ पा लुँगा मैं अपनी जिन्दगी में,
मगर वो तेरे मेहँदी लगे हाथ मेरे ना हो सकेंगे…


(4)
वो जो कहते थे हजारों
मिलते हैं रोज तेरे जैसे,
उनके हाथों पे मेहँदी
लगी है आज बरसों के बाद…


(5)
मेहेंदी का है ये कहना,
अपने पिया के संग रहना,
मेहंदी के रंग का है ये कहना
रंग छूटे पर पिया का संग ना छूटे…


(6)
कैसे भूल जाऊँ मैं उसको,
जो चाहता है इस कदर
हथेली की मेहंदी में लिखा है
उसने मेरा नाम छिपाकर…


(7)
होठों पर हंसी न हो
तो हाथों में मेहँदी नहीं लगाई जाती है,
इश्क़ किसी और से हो
तो किसी गैर से शादी नहीं रचाई जाती है…


(8)
जमाने के आगे दिल का हाल छुपाये बैठे है,
नादान है वो जो मेहंदी में मेरा नाम छुपाये बैठे है…


(9)
शादी में लगी मेहँदी का रंग कभी नहीं छूटता है,
ऐसे मौके पर ना जाने कितने आशिकों का दिल टूटता है…


(10)
मेहँदी है रचने वाली,
हाथों में गहरी लाली,
कहे सखियाँ हाथों में
अब कालिया खिलने वाली है
तेरे मन को तेरे जीवन को
नयी खुशियाँ मिलने वाले है…