Mausam Shayari in Hindi - मौसम शायरी

Mausam Shayari in Hindi

(1)

चलो आज खामोश प्यार को इक नाम दे दें,
अपनी मुहब्बत को इक प्यारा सा अंज़ाम दे दें,
इससे पहले की कहीं रूठ न जाएँ मौसम,
अपने धड़कते हुए अरमानों को एक सुरमई शाम दे दें…


(2)

मौसम की बहार अच्छी हो,
फूलो की कलिया कच्ची हो,
हमारी ये दोस्ती सच्ची हो,
रब बस एक दुआ है मेरे दोस्त की हर शाम अच्छी हो…

Mausam Hai Aashiqana Shayari

(3)

फूल खिलते हैं बहारों का समा होता है,
ऐसे मौसम में ही तो प्यार जवां होता है,
दिल की बातों को होठों से नहीं कहते,
ये फ़साना तो निगाहों से बयाँ होता है…


(4)

मौसम को मौसम की बहारों ने लूटा,
हमे कश्ती ने नहीं किनारों ने लूटा,
आप तो डर गये मेरी एक ही कसम से,
आपकी कसम देकर हमें तो हज़ारों ने लूटा…


(5)

हे मौसम प्यार का थोड़ा प्यार कर लो,
करते हो मोहब्बत अगर तो बाँहों में हमे भर लो,
चलो मेरे संग सपनो की दुनिया में घूम लो,
रोज़ हम चूमा करते हैं आज तुम हमें चूम लो…

Mausam Sad Shayari

(6)

क्या लाजवाब था तेरा छोड़ के जाना,
भरी भरी आँखों से मुस्कुराये थे हम,
अब तो सिर्फ मैं हूँ और तेरी यादें हैं,
गुजर रहे हैं यूँ ही तन्हाई के मौसम…


(7)

हार को जीत की इक दुआ मिल गई,
तप्त मौसम में ठंडी हवा मिल गई,
आप आये मेरे सनम तो यूँ लगा,
जैसे दिल के दर्द को कुछ दवा मिल गई…

Mausam Beimaan Shayari

(8)

बारिश का ये मौसम कुछ याद दिलाता हैं,
किसी के साथ होने का एहसास दिलाता हैं,
फ़िज़ा भी सर्द हैं यादें भी ताज़ा हैं,
ये मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता हैं…


(9)

मंजर भी बेनूर थे,
और फिजायें भी बेरंग थी,
तुम्हारी याद आयी और,
मौसम सुहाना हो गया…


(10)

यूँ ही शाख से पत्ते गिरा नहीं करते,
बिछड़ के लोग भी ज्यादा जिया नहीं करते,
जो आने वाले हैं मौसम उनका एहतराम करो,
जो दिन गुजर गए उनको गिना नहीं करते…