Matlabi Duniya Shayari in Hindi - मतलबी दुनिया शायरी

Matlabi Duniya Shayari in Hindi

(1)
यादों की कीमत वो क्या जाने,
जो किसी को यूँ ही भुला देते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं…


(2)
वो पहले सा कहीं मुझको कोई मंज़र नहीं लगता,
यहाँ लोगों को देखो अब ख़ुदा का डर नहीं लगता…


(3)
अगर कुछ सीखना ही है,
तो आँखों को पढ़ना सीख लो,
​वरना ​लफ़्ज़ों के मतलब तो,
​हजारों निकाल लेते है…


(4)
भुला देने की आदत नहीं हमको,
हम तो आज भी वो एहसास रखते हैं,
बदले बदले तो आप हैं जनाब,
जो सिवा हमारे सबको याद रखते हैं…


(5)
सीख रहा हूँ धीरे धीरे इस दुनिया के रिवाज,
जिससे मतलब निकल गया उसे दिल से निकाल दो…


(6)
बेमतलब की जिंदगी का सिलसिला ख़त्म,
अब जिस तरह की दुनिया उस तरह के हम…


(7)
जीने का मतलब मैंने प्यार से पा लिया,
जिसका भी ग़म मिला उसे अपना बना लिया,
आप रोकर भी ग़म न हल्का कर सके,
मैंने हँसी की आढ़ में हर ग़म छुपा लिया…


(8)
वो क्या जाने, यादों की कीमत,
जो ख़ुद यादों को मिटा दिया करते हैं,
यादो का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं…


(9)
इतनी दिलक़श आँखें होने का,
ये मतलब तो नही कि, जिसे देखो उसे बरबाद कर दो…


(10)
मुझे रिश्तो की लम्बी कतारों से
क्या मतलब?
कोई दिल से हो मेरा तो एक
शख्स ही काफी है…