Mahatma Gandhi Shayari in Hindi - महात्मा गांधी पर शायरी

Mahatma Gandhi Shayari in Hindi
महात्मा गांधी पर शायरी

(1)
सत्य अहिंसा का था वो पुजारी,
कभी ना जिसने हिम्मत हारी,
साँस दी हमें आजादी की,
जन जन है जिसका बलिहारी…


(2)
सच्चाई का शस्त्र लेकर,
और अहिंसा का अश्त्र लेकर,
तूने देश बचाया अपना,
गोरों को था दूर भगाया,
दुश्मन से प्यार किया,
मानव पर उपकार किया,
गाँधी करते तुझे नमन,
तुझे चढ़ाते प्रेम-सुमन…


(3)
दे दी हमे आज़ादी,
बिना खडग बिना ढाल,
साबरमती के संत,
तूने कर दिया कमाल…


(4)
देश के लिए जिसने विलास को ठुकराया था,
त्याग विदेशी धागे उसने खुद ही खादी बनाया था,
पहन के काठ के चप्पल जिसने सत्याग्रह का राग सुनाया था,
देश का था अनमोल वो दीपक जो महात्मा कहलाया था…


(5)
बापू के सपनो को फिर से सजाना है,
देकर लहू का कतरा इस चमन को बचाना है,
बहुत गा लिया हमने आज़ादी के गानों को,
अब हमें भी देशभक्ति का फ़र्ज़ निभाना है…

(6)

अहिंसा का पुजारी,
सत्य की राह दिखाने वाला,
ईमान का पाठ पढ़ा गया हमें,
वो बापू लाठी वाला…


(7)
जिसने देश को आज़ाद कराया,
पूरे भारत को अहिंसा का पाठ पढ़ाया,
जिसने भारतीय संस्कृति का महत्व बताया,
जिसने विदेशी संस्कृति को दूर कराया,
वही महान पुरुष राष्ट्रपिता महात्मा गांधी कहलाया…


(8)
सीधा साधा वेश था,
ना कोई अभिमान,
खादी की एक धोती पहने,
बापू की थी शान…


(9)
सिर्फ एक सत्य एक अहिंसा दो थे जिनके हथियार,
इन्हीं हथियारों से ही तो कर दिया हिन्दुस्तान को आजाद,
ऐसी अमर आत्मा को करो दिल से मिलके सलाम…


(10)
बस जीवन में ये याद रखना,
सच और मेहनत का सदा साथ रखना,
बापू तुम्हारे साथ है हर बच्चे के पास है,
सच्चाई जहाँ वहां उनका वास है…