Lalach Shayari in Hindi - लालच शायरी

दोस्तों कहते हैं लालच एक ऐसी चीज़ है जो इंसान की फितरत को दर्शाता है। इंसान अपने जीवन में कभी लालच करना नहीं छोड़ता है। पैसे का लालच, आगे बढ़ने का लालच या प्रतिष्ठा पाने का लालच हमेशा लालच के नशे में चूर रहता है। आज हम ऐसे ही कुछ लालच शायरी और लालची लोगों पर कोट्स स्टेटस लेकर आये हैं।

Lalach Shayari in Hindi

(1)
बेईमानी से ही लालच शुरू होता है,
लालच में इंसान सब कुछ खोता है,
बेचैनी में कभी जगता, कभी सोता है,
बुढ़ापे में पापों को सोचकर रोता है…


(2)
हम स्वार्थ की ज़मीन पर नफरतों का बीज बो रहे हैं,
झूठी शान और लालच में हम रिश्तों को खो रहे हैं…


(3)
रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने,
अपनी आँखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर…

Lalach Status in Hindi

(4)
अजीब सौदागर है यह वक़्त भी,
जवानी का लालच देके बचपन ले गया…


(5)
कितनी आसान थी जिन्दगी तेरी राहें,
मुश्किलें हम खुद खरीदते है,
और कुछ मिल जाए तो अच्छा होता,
बहुत पा लेने पर भी यही सोचते है…

Lalach Quotes in Hindi

(6)
कुछ किये बिना ही सबकुछ पाना ही
अत्यधिक लालच पैदा करता हैं…


(7)
लालच हर दिन बढ़ता जा रहा हैं,
इसे हम जरूरत से ज्यादा ना पाने की इच्छा से काबु कर सकते हैं…


(8)
शांति के बराबर दूसरा कोई तप नहीं है,
संतोष से बढ़कर कोई सुख नहीं है,
लालच से बड़ा कोई रोग नहीं है और दया से बड़ा कोई धर्म नहीं है…
चाणक्य

Lalchi Log Status in Hindi

(9)
जब इंसान के अंदर लालच का जन्म होता है,
उसके सुख और संतुष्टि को खत्म कर देता हैं…


(10)
अज्ञानी मन, अपने असीम दुःख, जुनून और बुराइयों के साथ, तीनों जहरों में निहित है…
लालच, क्रोध, और भ्रम