Khwahish Shayari in Hindi - ख्वाहिश शायरी

Khwahish Shayari in Hindi

(1)
दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ,
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ,
दिल में दर्द नहीं, उसकी यादें हैं,
अब यादें ही दर्द दे, तो उसे इल्ज़ाम क्या दूँ…


(2)
कैसे चुकाऊं किश्तें ख्वाहिशों की,
मुझ पर तो ज़रुरतों का भी एहसान चढा हुआ है…


(3)
इन्सान ख्वाहिशो से बंधा,
एक जिद्दी परिंदा है,
जो उम्मीदों से ही घायल है,
और उम्मीदों से ही जिंदा है…

Shayari in 2 Line

(4)
मेरी ख्वाहिश है की मैं फिर से फरिश्ता हो जाऊं,
”माँ ” से इस तरह लिपट जाऊं की बच्चा हो जाऊं…


(5)
कोई वादा न कर, कोई इरादा न कर,
ख्वाहिशों में खुद को आधा न कर,
ये देगी उतना ही जितना लिख दिया,
इस तकदीर से उम्मीद ज्यादा न कर…

(6)
तमन्नाओ से भरी हो जिंदगी,
ख्वाहिशों से भरा हो हर पल,
दामन भी छोटा लगने लगे,
इतनी खुशियां दे आपको आने वाला कल…


(7)
उसने मुझसे ना जाने क्यों ये दूरी कर ली,
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी,
मेरे मुकद्दर में दर्द आया तो क्या हुआ,
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी…


(8)
हो पूरी दिल की हर ख्वाहिश आपकी,
और मिले खुशियों का जहाँ आपको,
जब कभी आप मांगे आसमान का एक तारा,
तो भगवान् दे दे सारा आसमान आपको…