Kamyabi Shayari in Hindi - कामयाबी शायरी

Kamyabi Shayari in Hindi

(1)

हौसले बुलंद कर रास्तों पे चल दे,
तुझे तेरा मुकाम मिल जायेगा,
बढ़ कर अकेला तू पहल कर देखकर तुझको,
काफिला खुद बन जायेगा…


(2)

मँजिले बड़ी जिद्दी होती हैँ,
हासिल कहाँ नसीब से होती हैं,
मगर वहाँ तूफान भी हार जाते हैं,
जहाँ कश्तियाँ जिद पर होती है…

Business Success Shayari

(3)

भरोसा ‘‘ईश्वर’’ पर है तो,
जो लिखा है तकदीर में वो ही पाओगे,
मगर भरोसा अगर खुद पर है,
तो ईश्वर वही लिखेगा, जो आप चाहोगे…


(4)

खोल दे पंख मेरे, कहता हैं परिंदा, अभी और उड़ान बाकी हैं,
जमी नही है मंजिल मेरी, अभी पूरा आसमान बाकी हैं,
लहरों की ख़ामोशी को समंदर की बेबसी मत समझ ए नादान,
जितनी गहराई अंदर हैं, बाहर उतना तूफ़ान बाकी हैं…


(5)

संघर्ष में आदमी अकेला होता है,
सफलता में दुनिया उसके साथ होती है,
जिस-जिस पर ये जग हँसा है,
उसीने इतिहास रचा है…

कामयाबी शायरी

(6)

हौसले बुलंद कर रास्तों पे चल दे,
तुझे तेरा मुकाम मिल जायेगा,
बढ़ कर अकेला तू पहल कर देखकर तुझको,
काफिला खुद बन जायेगा…


(7)

अभी को असली मंजिल पाना बाकी है,
इरादों का इम्तिहान बाकी है,
अभी तो तोली है मुट्ठी भर जमीन,
अभी तोलना आसमान बाकी है…

Kamyabi Kadam Chumegi Shayari

(8)

जिनको अपने काम पर भरोसा होता हैं,
वो नौकरी करते हैं,
जिनको अपने आप पर भरोसा होता हैं,
वो व्यापार करते हैं…


(9)

चलता रहूँगा पथ पर,
चलने में माहिर बन जाऊंगा,
या तो मंजिल मिल जाएगी,
या अच्छा मुसाफ़िर बन जाऊंगा…


(10)

सफर में मुश्किलें आये तो हिम्मत और बढ़ती है,
कोई अगर रास्ता रोके, तो जुर्रत और बढ़ती है,
अगर बिकने पे आ जाओ तो घट जाते है दाम अक्सर,
ना बिकने का इरादा हो तो कीमत और बढ़ती है…