Fursat Shayari in Hindi - फुर्सत शायरी

आपको इस पोस्ट में Fursat Shayari और Pehli Fursat Mein Nikal Shayari मिलेगी जो आपके मन को एक दम फ्रेश कर देगी। तो चलिए पढ़ते हैं आज का हमारा टॉपिक।

Fursat Shayari in Hindi

(1)
इस भीगे भीगे मौसम में थी आस तुम्हारे आने की,
तुमको अगर फुर्सत ही नहीं तो आग लगे बरसातों को 💔


(2)
आपके ख्यालों से फुर्सत नहीं मिलती,
एक पल के लिए हमें राहत नहीं मिलती,
यूँ तो सब कुछ हमारे पास है,
बस देखने के लिए आपकी सूरत नहीं मिलती…


(3)
अभी तुम लिख लो दिल पर दास्तान मेरी,
मिले फुर्सत पड़कर देखना मेरी खता क्या थी 💔


(4)
कल अगर फुर्सत न मिली तो क्या होगा,
इतनी मोहलत न मिली तो क्या होगा,
रोज़ कहते हो कल मिलेंगे कल मिलेंगे,
कल ये आँखे न खुली तो क्या होगा…


(5)
मेरे हमदम तुम्हें बड़ी फुर्सत में बनाया है,
जुल्फें ये तुम्हारी बादल की याद दिला दें,
नज़र भर देख लो जो किसी को,
नेक दिल इंसान की भी नियत बिगड़ जाए…

Pehli Fursat Mein Nikal Shayari

(6)
इज़्ज़त दो और इज़्ज़त लो,
नहीं तो भाई पहली फुर्सत में निकल लो 🤣


(7)
जब कभी फुर्सत मिले मेरे दिल का बोझ उतार दो,
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो…


(8)
जिसे खुद से ही नहीं फुरसतें,
जिसे खयाल अपने कमाल का,
उसे क्या खबर मेरे शौक़ की,
उसे क्या पता मेरे हाल का ❤️


(9)
मेरे इश्क़ को भी समझोगी,
मेरा ख्याल भी आएगा,
जब फुरसत में तुम यह समझोगी
कि मेरी तरह कौन चाहेगा…


(10)
बड़े अजीब से रिश्ते हो गए है आजकल,
सभी के पास फुर्सत है पर वक़्त नहीं 💔