Flower Shayari in Hindi - फूलों पर शायरी

Flower Shayari in Hindi

ख़ूबसूरत गुलाब
मोहब्बत का पैगाम देते है,
आज भी इश्क में आशिक
अपनी जान देते है…


बन के गुलाब कांटे चुभा गया एक शख्स,
हुआ चिराग तो घर ही जला गया एक शख्स,
तमाम रंग मेरे और सारे ख्वाब  मेरे,
फ़साना था के अफसाना बना गया एक शख्स…


कांटों से घिरा रहता है चारों तरफ से फूल,
फिर भी खिला ही रहता है,क्या खुशमिज़ाज है…

Phool Shayari

आप आए तो बहारों ने लुटाई खुश्बू,
फूल तो फूल थे काँटों से भी आई खुश्बू…


सालों बाद न जाने क्या समां होगा,
हम सब दोस्तों में से न जाने कौन कहाँ होगा,
फिर मिलना हुआ तो मिलेंगे ख्बाबों में,
जैसे सूखे गुलाब मिलते हैं किताबों में…


आप तो गुलदस्ता का सबसे खुबसूरत फूल हैं,
हम तो बस आपके कदमो का धूल हैं…


चेहरा आपका खिला रहे गुलाब की तरह,
नाम आपका रोशन रहे आफताब की तरह,
ग़म में भी आप हँसते रहे फूलों की तरह,
अगर हम इस दुनिया में न रहें आज की तरह…

Phool Hai Gulab Ka Shayari

फूल है गुलाब का तोड़ा नहीं जाता,
आप जैसे दोस्तों को छोड़ा नहीं जाता…


सारी उम्र में एक पल भी आराम का न था,
वो जो दिल मिला किसी काम का न था,
कलियाँ खिल रही थी हर गुलाब था ताज़ा,
मगर कोई भी गुलाब मेरे नाम का न था…


हमें कोई काटा चुभा ही नहीं होता,
हमारा दिल अगर नाजुक फूल न होता…