Afsos Shayari in Hindi - अफ़सोस शायरी

Afsos Shayari in Hindi

(1)
अपनी ज़िन्दगी में उन्हें शामिल न कर सके,
चाह कर भी उन्हें हासिल न कर सके,
उन्हें बेवफा से मोहब्बत थी,
अफ़सोस खुद को उनके काबिल न कर सके…


(2)
अफ़सोस तो है तुम्हारे बदल जाने का मगर,
तुम्हारी कुछ बातों ने मुझे जीना सिखा दिया…


(3)
ताजमहल किसी के लिए एक अजूबा है,
तो किसी के लिए प्यार का एहसास है,
हमारे तुम्हारे लिए तो बकवास है,
क्यूँ की की रोज़ बदलती हमारी मुम्ताज़ है…


(4)
रखते थे होठों पे उंगलियां जो मरने के नाम से,
अफसोस वही लोग मेरे दिल के कातिल निकले…


(5)
न मोहब्बत संभाली गई, न नफरतें पाली गईं,
अफसोस है उस जिंदगी का, जो तेरे पीछे खाली गई…


(6)
मैं फना हो गया अफसोस वो बदला भी नहीं,
मेरी चाहतों से भी सच्ची रही नफरत उसकी…


(7)
मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली यारो,
वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते है…


(8)
उसकी आँखों में नज़र आता है सारा जहां मुझ को,
अफ़सोस कि उन आँखों में कभी खुद को नहीं देखा…


(9)
एहसास बदल जाते हैं बस और कुछ नहीं,
वरना नफरत और मोहब्बत एक ही दिल में होती है…


(10)
कुछ जुदा सा है मेरे महबूब का अंदाज,
नजर भी मुझ पर है और नफरत भी मुझसे ही…