Sad Dosti Poetry | Sad Poem Friendship Hindi

Sad Dosti Poetry Sad Poem On Friendship Hindi Image Facebook Whatsapp
Sad Dosti Poetry | Sad Poem On Friendship Hindi

Haan Thoda Thak Gaya Hoon Door Nikalna Chhod Diya,
Par Aisa Nahi Ki Meine Chalna Chhod Diya…

Faasle Aksar Rishto Mein Doori Badha Dete Hain,
Par Ye Nahi Ki Meine Doston Se Milna Chhod Diya….

Haan Zara Akela Hoon Duniya Ki Bheed Mein,
Par Aisa Nahi Hai Ki Meine Dostana Chhod Diya…

Yaad Tumhe Karta Hoon Doston Aur Parwah Bhi,
Bus Kitni Karta Hoon Ye Batana Chhod Diya…


हाँ थोड़ा थक गया हूँ दूर निकलना छोड दिया,
पर ऐसा नही की मैंने चलना छोड़ दिया।

फासले अक्सर रिश्तो में दूरी बढ़ा देते है,
पर ये नही की मैंने दोस्तों से मिलना छोड दिया।

हां जरा अकेला हूँ दुनिया की भीड मे,
पर ऐसा नही है कि मैंने दोस्ताना छोड दिया।

याद तुम्हें करता हूं दोस्तों और परवाह भी,
बस कितनी करता हूं ये बताना छोड़ दिया।।




Kya Hai Dosti Shayari Picture

Kya Hai Dosti Shayari Picture Wallpaper Facebook
Dosti Na Kabhi Imtihan Leti Hai
Dosti Na Kabhi Imtihan Deti Hai
Dosti To Wo Hai
Jo Barish Mein Bheege Huey Chehre Par Bhi
Aasuon Ko Pehchan Leti hai
————————-
दोस्ती ना कभी इम्तिहान लेती है
दोस्ती ना कभी इम्तिहान देती है
दोस्ती तो वो है
जो बारिश में भीगे हुए चेहरे पर भी
आँसुओं को पहचान लेती है