0

Army Shayari in Hindi – आर्मी शायरी – Indian Army Shayari Photos

Army Shayari in Hindi – आर्मी शायरी – Indian Army Shayari Photos
Rate this post

Army Shayari in Hindi and आर्मी शायरी collection is here to salute our Indian Army. In this post you will get – आर्मी पर शायरी, Shayari on Army Soldiers, Indian Army Shayari in Hindi, Indian Army Quotes in Hindi, Indian Army Photos and some Army Slogan to express your feelings for our Indian Army. Earlier we posted the best collection of Desh Bhakti Shayari with images and wallpapers.

Indian Army Shayari in Hindi

Indian Army Shayari in Hindi

Top 10 Army Shayari in Hindi
आर्मी पर शायरी

(1) Best Army Shayari : चढ़ गये जो हंसकर सूली, खाई जिन्होंने सीने पर गोली, हम उनको प्रणाम करते हैं। जो मिट गये देश पर, हम सब उनको सलाम करते हैं…

(2) दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान है,
सिर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान है….

(3) Shayari on Army Soldiers : ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई , मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता, नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमट कर मरे हैं कई , मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता…. आओ नमन करें उन शहीदों का जो हुए हैं कुर्बान इस ज़ज्बे से और हमें दे गए हैं यह आज़ादी तोहफे में….

(4) चड़ गये जो हँस कर सूली,
खाई जिन्होने सीने पर गोली,
हम उनको प्रणाम करते हैं…
जो मिट गये देश पर,
हम सब उनको सलाम करते हैं….

(5) जहाँ हम और तुम हिन्दू-मुसलमान के फर्क में मर रहे हैं,
कुछ लोग हम दोनों के खातिर सरहद की बर्फ में मरे रहे हैं….

Indian Army Shayari in Hindi
इंडियन आर्मी 

(6) नींद उड़ गयी यह सोच कर, हमने क्या किया देश के लिए,
आज फिर सरहद पर बहा हैं खून मेरी नींद के लिए…..

(7) Indian Army Shayari in Hindi : कभी ठंड में ठिठुर कर देख लेना,
कभी तपती धूप में जल के देख लेना,
कैसे होती हैं हिफ़ाजत मुल्क की,
कभी सरहद पर चल के देख लेना

(8) Army Slogan : मिलते नही जो हक वो लिए जाते हैं,
है आजाद हम पर गुलाम किये जाते हैं,
उन सिपाहियों को शत शत नमन करो,
मौत के साए में जो जिए जाते हैं….

(9) Indian Army Quotes in Hindi : मेरे जज्बातों से मेरा कलम इस कदर वाकिफ हो जाता हैं, मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो इन्कलाब लिखा जाता हैं….

(10) Army Shayari in Hindi : अपना घर छोड़ कर, सरहद को अपना ठिकाना बना लिया,
जान हथेली पर रखकर, देश की हिफाजत को अपना धर्म बना लिया….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *